Friday, 24 February 2017

BUA KI CHUDAI : HOT SEX STORY



Hi, doston mein yahaan apni pehli baar story likh raha hoon. Well let me tell about my self  about my Buaaji. Mera naam Anjani hai or mein Bihar mein rehta hoon. Meri Buaa ka naam Kanika hai or unki umar 50 ki hai par belive me she is as hot as a 20 year old girl unka figure 45″ 35″ 45″ hai. Gaand to intni godi or moti hai ki pucho mat uske boobs itne bade-2 hain ki 2no haatho se pakdo to bhi pakad mein nahi aayenge.
Mai unhe jab bhi dekhta bas man karta ki sali ko chod doon par dar lagta tha ki kahi use bura na lag jaye or wo kisi ko bol na de bas uce dekh-2 kar hi santosh kar leta tha, wo jab-2 nahane jati to mai use bathroom ki niche se dekhta tha.Baat un dino ki hai jab mere ghar pe koi nahi tha mummy papa ghar se 2 dino ke liye bahar gaye hue the or ghar pe mai akela tha us waqt tabhi maine plan banaya apni bua ko chdne ka bas fir kya tha maine unhe
Phone kiya ki buajee mummy papa ghar pe nahi hai aap please 2-3 dino ke liye mere ghar pe aajaiye aap bhi akeli hi hai or mai bhi dono ko company bhi mil jayegi tab wo meri baat maan gayi fir mai use ghar le aaya.
Mai unse kah ki achcha kiya ki aap chali aaiyi to unhone kaha are ismein ehsan ki kya baat hai tum to mere bete ki tarah ho na.Mere to mano aaj sab arman pure hone wale the mai pure din raat hone ke intizar mein tha ki kab raat ho or main apna plan ko anjam doon.
Or fir raat hui maine unse kaha ki aaj Khir banaiye na please to usne kaha ki thik hai usne khir banane ke khana lagaya usne 2 Katori mein khir lagaya Maine mauka dekh kar unke khir mein nind ki goliya mila di jo mai bazar se lekar aaya tha. Hum logo ne khana kha ke sone ki tayari karne lage wo boli tum mere paas soge ya fir apne room mein alag soge mai bhala ye avsar kaha chorne wala tha so maine kha are nahi aap kehti hain to main apke paas hi so jaunga.
Fir hum log TV dekhne lage main uske sone ki intezar mein tha karib 1 ghante tv dekhne ke baad use nind aagayi.Maine mauka dekh kar blue film ki cd laga di jo ki bahot hi erotic thi jise delkh kar kisi ki bhi lund khara ho jaye Fir main uske bagal mein aakar let gaya or uske badan pe apni leg or haath rakh diya fir dhire-2 main uski saari uke sine se hata di by god kya bari-2 choochiyan thi uski blouse mein bhi gajab ke hot lag rahe the fir dhire-2 mane apni leg se uski saari ghutne tak upar chadha di fir maine dhire-2 uske
Blouse ke botton kholne laga bahot tight the fir bhi maine kisi tarag unhe khol diye andar usne black colcor ki bra pehen rakhi thi fir maine himmat kar ke uske bra ke upar se kiss karne laga to wo thodi harkat mein aagayi lekin dawyi ke karan wo abhi bhi nind mein hi thi so jayda kuch nahi bol payi sirf usne kaha ye kya kar rahe ho ye galat hai tumhari umar abhi ye sab karne ki nahi hui hai to maine kaha janemen umar ki choro mere 7 inch ke lund ko dekho jo tumhe kabse chodne ko betab hain.
Fir maine himmat kar ke use lip kis karne laga wo mujhse chootna cha rahi thi leki nnd ki wajah se jayada kuck nahi kar payi or fhir mera saath dene lgi maine moka paake uske blouse or bra ko uske badan se khich kar utaar di ab wo upar se bilkul nanagi thi uski laal-2 rasbhari 2no chochiya hil rahi thi friends belive me itni umar hone ke baad bhi uske boobs bilkul tight the rubber jaise main paagalon ki tarah use choosne, maslane or kaatne laga wo
Apna sir tkiye pe patak rahi thi or aahhhh aaaahhhhh jase awaj nikal rahi thi.
Fir maine uski saari or petocot ko bhi utaar diya ab wo bilkul nanagi thi mano koi pahad bed pe ssoya hua tha uska chut pe halke-2 baal the wo apni chut ko apni tango se chipa rahi thi to mane uske tange fala ke kaha janeman ab kahe ki saram ab to sab mera hai fir maine bhi apne saare kapde utar diye or uske upper aake let gaya usne mujhe kas ke apne bahon mei daboch liya or
Apne lip se mere lip ko choosne lagi maine bhi uski lip maein daat kat li wo siskarne lage hum logo ke thook ek doosre mein milne lage.
Fir maine uske chut mein apni 1 ungi daal di wo karah uthi uiiiiimaaaa aaahhhh maine apni ungli uske chut mein anadar bahar karne laga to use maza aane laga wo mere lund ko pakad ke masalne lagi or uper niche karne lagi taki mai jhad jaaun maine badi mskil se uske haath se apna lund chodaya fir manie uski chut ko chanta suru kar diya wo siskiyan lene lagi or
Bolne lagi please ab bas karo mijhse or nahi bardast ho raha hai plese mere chut ko chod do chod do or wo tarapne lagi.15 min tak uski chut chatne ke baad maine use apni lund ko choosne ke liye bola to nahi mani to maine kaha jab tak tum nahi chusogi main tumri chut nahi chodunga fir wo maan gayi or wo meri lind ko muh men lekar lolipop ki trah chosne lagi mujhe bhi bada maja aaraha tha karib 5 min ke baad maine use bistar pe letaya or uski
Taangi fala ke apna 7 inch ka lund uske chut ke mooh pe tik ke andar dalne laga ab jabki uski chut bilkul gili ho chuki thi so mere 1 jhatke mein uske chut mein mea lagbhag adha lund sama gaya wo dardser chik pari ooooohhhhhhh aaaahhhh nikalo mujhe dard ho raha hai fir maine uski lip kiss li or fir 1 jhatke mein pura lund ghusa diya wo tadap uthi or chilane lagi
Fir maine jab apna lund andar bahar karne laga to use thoda aaram laga or fir wo bhi mere saath apna gand hlane lagi thodi der dhire-2 chodne k baad maine apni speed bhada di wo dard se tadapne lagi or usne bhi apni speed badha di karib 20 min use chodne ke baad main uski chut mei hi jad gaya or uske upper hi let gaya wo bahot tired feel kar rahi thi or mujhse lipat ke let gayi.
Hum log raat bhar waise hi nange ho kar sote rahe or subh nind khuli to usne kaha bahot dino k baad intna maja aaya tab jake usne apne baare mei bataya ki isse pehle bhi 5-7 logo ne uski chudai ki thi. Fir mane bhi mauka dekh kar use kaha to agli baar mere 1 dost ko kush kar de wo kab se is mauke ki talas mein hai to usne kaha thik agli baar use uske ghar pe bhej de.

Pados Wali Maal : Hot Sex Kahani



Mera naam Sudhanshu hai nick name Devil Shaktiman hai. 6’2” feet lamba thoda sawla muscular body bas paith hulke sa bahar baki sab bawal hai 7″inch ke land ka malik mai raipur chattisgarh ka rahene wala hu. Chaliye ab main story pe ate hain.

Mere ghar ke bagal ek ghar jo rent ke liye khali tha. Vaha ek family rahene ayi pehle to maine notice nai kiya but jab mere ghar wale unke shift hone ke 3din baad unse full family (with me) to mere hosh udd gaye.

Ek cute chand se chehre ne darwaza khola vo ladki ko dekhti hi uske ankhon mai kho gaya vo approx 6feet ki bade boobs wali. Patli kamar aur chaude hand wali cute kam sexy thi, uske bal one sided kamar tak the mai dekhte hi use pagal ho gaya usne jab mujhe notice kiya to has di.
Mai socha ladki to ek pari hai isko pata liya na to mera mauja hi mauja. Us din ke baad mai uske piche pad gaya.
Mai gar jagah uska picha kiya uska gym join kiya usi ka tution join kar liya aur incidently vo mere school admission li ab to. Mai use apna mission bana liya
Ek din vo class mai late ayi dekhte hi maine apne dost ko dusri khali seat ke bhej diya. Aur use majburan mere saath baithna pada . Batq nahi sakta pagal ho gaya…Tha yaar man kar raha tha nanga nachu but ijjat wala hu mai. Ye sab nai plz..
So ab usse baat ho gayi aur dheere dheere uske close aake maine usse propose kar diya, vo pehle kuch nahi boli do din baat nahi ki aur fir ek din mai chat chad kar uske chat par kuda vo bhi raat 11 baje chaku leke aur pahuchte hi usse vapas propose kiya vapas kuch nai boli maa kasam gussa aya apni ungli bich wali kat di.
Vo bichari dekh ke rone lagi aur mere se lipat gayi. Mere se mai bata nai sakta yaari jab vo lipti na to 440 volt ka jhatka lag gaya yaar gand phat ke gubbara ho gayi uske boobs mere sine chipak gaye maine bhi use daboch liya . Aur hum aise 5 min tak lipte rahe
Ab kya mai tehra madarchod use propose karne ke 1month maine use pehli baar kiss kiya phir uske baad maine use seduce kiya aur kya uska razi karne ki koshish ki aur vo man gayi.
Exams aye humare group studies uncle aunty mere se free uska chota bhai to mere hairstyle ka fan tha. Ek din society mai ek uncle ki shadi thi to mere ghar wale aur uske ghar wale waha hum log ki suv mai chale gaye aur hum log group study saath the.
Ab aya main topic mutth mar dosto. Maine use seduce kiya door lock a/c ko 16degree mai kiya aur usko daboch liya vo man nahi rahi thi to maine use kiss karna chalu kiya mai to pagal ho gaya dosto itne soft gulabi rasile hoth.
Humara ustad jagne laga(swayam land ) then main usko apne upar mere taraf kar ke bitha ke bed par baith gaya use kiss kara bahut der tak.
Phir maine uski shirt utari dosto tum believe nai kar paoge uske boobs makhmal ke jaise soft pink the mai uska bra khich ke nikal diya uske boobs ko chatne laga aur uske gand ko dono hatho se dabane laga pura room.
Aaaaaaa!!! uhhhhhhh… suuuuuhhh.. se gunja vo to pagal ho gayi uske chucho ko katne laga vo seh nahi pa rahi thi.
Use sehen nahi ho raha tha uske chuche tight ho gaye the vo chilla rahi thi. Bas ab aur nahi yaar please mere sher .
Uske awaz sunke mera andar ka sher jaga aur mera ustad ready ho gaya . Maine use uthaya apni baho pe aur bed pe letaya usne meri shirt utar di. Meri baniyan phad di . Mai masti mai. Uski pant utari aur uski pantie phad aur bola bara bar vo hasne lagi vo garam thi.
Usbe mera jeans aur chaddi utar di.Mera ustad dekh kar boli bap re itna bada lagta ye meri phad dega maine bhi kaha sahi pakde hai.
Phir mai uske upar let ke use kiss karne laga uski chut sehlane laga uske chuccho ko masalne laga vo chillane lagi.

Plz ab na tadpao yaar mai bola mera kitna jhelaye tadpai mai kyu na tadpau mai uske boobs daba daba ke chatne laga phir hum dono jhar gaye.
Bapre oh my god awwwww… uuuuuh.. saaauuhh…
Phir aya tym mera ustad ho gaya ready.
Maine bola nishane mai taiyaar maine apne land cream lagayi aur uske par leta aur pudi mai nishana lagaya uski chut. Mai mera lund ki entry nahi ho rahi thi maine dam lagaya na to ghus gaya but use itna dard hua ki.
Vo apni chillahat roki aur uske ankh se asu nikal gaye uske cute aur masum sa chehra dekh kar man kar raha tha ki apna land kat do. Phir maine usko kiss usko acha laga thodi der baad dard kam ho gaya tab maine pura ghusaya uski chiz is baat nikal gayi thi.
But uske kamre ka darwaza aur window band thi isliye awaz jyada bahr tak nahi gayi. Vo pagal ho gayi thi dard mai. Boli plz yaar bas nikal I cant handle it. Mai bola itta bade ke liye handle nai steering lagega to wo has padi.
Phir thodi maine uske ke neck mai apna nak ragda usko maza ayega jab uska dard kam hua to maine phir usko. Chodna chalu kiya mai to jaise laga swarg mai a gaya hu.
Manno itna maza a raha tha uska gora gora badan komal naram sa uski pink chut me mera land maine usko 5 minute choda phir mera las nikalne wala tha hum dono jhod chuka tha meri himmat nai thi lund bahar nikal ke apne las girane but mai usko pregnant karke uski zindagi nai karna chahta tha.
Kyuki mai use such much chahta tha.
Phir hum dono ek dusre ke upar lete rahe. Phir maine ulta sone ke liye bola taki uski gand phad saku to vo. Boli aur nai sehpaungi use convience kar ke maine uske raseele gand mai apna land upar se hi uska gand se chipka hilane laga usko josh chad gaya.
Bas aur mat tadpao mujhe tab maine hath rakha aur uski puri takkat se ghusa diya use baahhut dard hua but thodi der maine use bahut choda karib 10 minute.
Phir ek dusre ke upar phir dono kapda pehne. Aur vapas studies karne lahe . Bas uske bad bhi hum log apna ye kaam jaruri rakhe kabhi na kabhi pauka pake chauka marta tha.. ” pados

पड़ोस की भाभी मस्त माल : गाँव की चुदाई कहानी



बात उन दिनों की है जब मैं गाँव में रहता था, उस समय मेरी पड़ोस में एक नयी नहीं शादी हुई थी रिश्ते में वो भाई लगता था नाम था कौशल, शादी के कुछ दिन बाद यानी की ५ दिन बाद ही वो अपने काम पे यानी की दिल्ली लौट आया था! उनके घर में सिर्फ कौशल भैया की माँ और वाइफ ही रहने लगी थी. मैं कभी कभी उनके घर जाया करता था, और हसी मजाक भी होता था क्यों की वो भाभी थी, अक्सर मेरे यहाँ हसी मजाक देवर भाभी में होता है.
एक दिन जब मैं उनके घर गया गर्मी का दिन था वो अकेले ही घर पे थी उनकी सास अपने मायके गयी हुई थी एक दिन के लिए, पहले मैं आपको भाभी के बारे में बता दू भाभी करीब २१ साल की थी रंग गेहुआ चेहरा गोल, टाइट चूची गोल गांड और जब वो साड़ी पहनती तो वो नाभि की निचे सारे बांधती थी उनका गोल गोल पेट पे नाभि एक गदम सुराही के तरह पेट लगता था, लाल लाल होठ कस हुआ बदन. बहुत ही सेक्सी लगती थी. जब मैं उनके घर गया तो वो कुछ काम कर रही थी और मैं वही चारपाई पे बैठ गया, वो अपना काम खत्म करके वो कमरे में चली गयी और मुझे भी बोली अंदर ही आ जाओ बहार बरामदे पे बहुत धुल उड़ रहा है, मैं भी अंदर चला गया और वही बैठ गया, हम दोनों में बात चीत होने लगी वो बोल रही थी की मैं आपकी शादी अपने ही मायके में करवाउंगी एक बड़ी ही ख़ूबसूरत लड़की है मेरी चचेरी बहन लगती है, मुझे भी आनंद आ रहा था क्यों की किसी भी कुंवारे को शादी के बारे में बात करते अच्छा लगता है, फिर वो काफी देर इधर उधर की बात करने के बाद मैं जाने ही बल था की वो कमरे के दरवाजे पे ही बैठ गयी उनका आँचल सरका हुआ था ब्लाउज टाइट होने की वजह से उनका चूच ऊपर से निकलने की कोशिश कर रहा था, ये सब देख के मेरा लैंड खड़ा हो गया मैं थोड़ा शर्मा भी रहा था क्यों की लग रहा तो अगर वो देख लेगी तो कैसा लगेगा, क्यों की मेरे लैंड का उभर पता चल रहा था.

मैं जैसे ही दरवाजे से निकलने की कोशिश किया मैंने कहा भाभी थोड़ा पैर हटाना वो थोड़ा और भी चौड़ी होकर बैठ गयी फिर मैंने उनको फिर कहा वो मुस्कुरा रही थी पर हटाई नहीं मैं वैसे ही जाने लगा की वो बैठी थी मेरे लैंड काफी टाइट था उस समय जससे ही मैं एक पैर उनसे आगे रखा वो मेरे लैंड को पकड़ ली मैं पीछे कमरे में हो गया और फिर वो हुस्ने लगी, मुझे अच्छा लगा पर मैं बहाना बनाने लगा “मुझे जाना है प्लीज हटो ना वह से” पर जैसे ही जाने की कोशिश करता फिर लैंड पकड़ लेती, मैंने कहा मैं भी कुछ छु दूंगा, वो बोली क्या छुओगे बताओ और फिर उसने लैंड को छु दी, मैंने उनके गाल पे चुटी काटा वो फिर मेरे लैंड को छू ली. फिर मैंने कहा आप ऐसे नहीं मानोगे, तबी वो भाग के अंदर हो गयी मैंने उनके चूची को पकड़ने की कोशिश कर रहा था पर वो इससे बचने की कोशिश कर रही थी मैंने उनको पीछेः से पकड़ के दोनों चूचियों को अपने हाथ में ले लिया उनके कपडे अस्त व्यस्त हो गए थे, वो दब्बाये जा रही थी और हुस रही थी फिर मैंने उनके गर्दन पे किश करना शुरू कर दिया मैंने कहा भाभी क्या मुझे दोगे “वो बोली हां किसी को बोलना नहीं इसके बारे में” मैंने कहा नहीं नहीं ये कोई बाोलने की बात है फिर वो कमरे से बहार आयी और इधर उधर देखि सड़क के तरफ और बहार शायद वो ये देख रही थी कोई बाहर है तो नहीं. बहार लू चल रही थी और हवा की आवाज़ आ रही थी सारे लोग अपने अपने घरो में थे.

फिर वो २ तीन मिनट में आ गयी और मुझे पकड़ के किश करने लगाई आँचल उनका जमीं पे गिर रहा था चुचिया तनी हुई थी मदहोश कर देने बाली पसीने की खुसबू उनके कांख से आ रही थी हल्का हलका पसीना उनके माथे पे था, ये पहली बार था जब किसी ने मेरे जिस्म की और लैंड को छुई थी, मेरा गाला सुख रहा था मैंने पानी पि फिर मैंने उनके टाइट गाल और नरम नरम होठ पे चुम्मा लेना शुरू किया, ऐसा लग रहा था की जन्नत में हु, मेरे लैंड में तो ऐसा लग रहा था कोई विद्युत की धरा प्रवाह हो रहा था, क्या हसीं पल था.
फिर वो वही निचे चटाई पे लेट गयी और अपने ब्लाउज का हुक खोल के पीछे से ब्रा का भी हुक खोल के अलग कर दी, दोनों बड़ी बड़ी चुचिया कैद से आज़ाद हो चूका था वो अपने होठ को अपने दातो का काट रही थी अपनी जीव्ह से अपने होठो पे फ़िर रही थी मैंने उनकी साडी को ऊपर उठा दिया वो उस समय पेंटी नहीं पहनी थी जब मैंने साडी उठाया उनका बूर (चुत) नहीं दिखाई दे रहा था जांघ से सटा हुआ था ऊपर थोड़ा थोड़ा भूरा भूरा बाल दिखा रहा था और गोल गोल जांघे, जब उनकी और देखा तो उनकी आँखे लाल हो चुकी थी चुचिया तन चुकी थी निप्पल टाइट था, मैंने दोनों पैर को अलग किया ताकि बूर की देख सके छोटा से बूर दिखा मैंने अपना लैंड निकला और उनके ऊपर लेट गया पर मेरी पहली चुदाई थी पता नहीं था कैसे डालते है फिर उन्होंने थोड़ा उठने के लिए कहा और अपनी चुडिओं की खनकती हुयी हाथो से मेरे लैंड को पकड़ के अपने बूर के मुहाने पे ले गयी और बोली चोदो.
मैंने जोर से धक्का लगाया और मेरा लौड़ा बूर के अंदर चला गया उनकी चीख निकल गयी ” हाई मैं मर गयी” कितना बड़ा लौड़ा है, आआआआआआआआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह, हेेेेेेेेेेेेेेे भगवान……………… ओईईईईईईईईईईए मेरी माआआआआआआआ, मैंने अपने लैंड को अंदर बाबर करना शुरू किया और चुचिया की निप्पल को अपने दातो से दबाने लगा वो अपना दोनों हाथ ऊपर कर दी उनकी कांख की बाल दिखाई देने लगा और उस समय की सीन की आप कल्पना कर सकते है कैसी लग रही होगी. करीब १० मिनट तो चुदाई करने के बाद मैं झड़ गया क्यों वो वो काफी कामुक हो गयी थी और अपनी गांड को उठा उठा के चुदवा रही थी वो भी निढाल हो गयी और एकदम शांत हो गयी मैं भी उन्ही के ऊपर पड़ा रहा फिर थोड़ी देर बाद उठा दोनों ने एक दूसरे को किश किया फिर आज तक कभी मौका नहीं मिला चोदने का क्यों की उसके बाद उनकी सास आ गयी और मैं भी पढ़ाई करने के लिए शहर चला गया अब तो जब भी मैं गाँव जाता हु एक हलकी सी मुस्कान देती है, ये मेरी सच्ची कहानी है,

पड़ोस की भाभी मस्त माल : गाँव की चुदाई कहानी



बात उन दिनों की है जब मैं गाँव में रहता था, उस समय मेरी पड़ोस में एक नयी नहीं शादी हुई थी रिश्ते में वो भाई लगता था नाम था कौशल, शादी के कुछ दिन बाद यानी की ५ दिन बाद ही वो अपने काम पे यानी की दिल्ली लौट आया था! उनके घर में सिर्फ कौशल भैया की माँ और वाइफ ही रहने लगी थी. मैं कभी कभी उनके घर जाया करता था, और हसी मजाक भी होता था क्यों की वो भाभी थी, अक्सर मेरे यहाँ हसी मजाक देवर भाभी में होता है.
एक दिन जब मैं उनके घर गया गर्मी का दिन था वो अकेले ही घर पे थी उनकी सास अपने मायके गयी हुई थी एक दिन के लिए, पहले मैं आपको भाभी के बारे में बता दू भाभी करीब २१ साल की थी रंग गेहुआ चेहरा गोल, टाइट चूची गोल गांड और जब वो साड़ी पहनती तो वो नाभि की निचे सारे बांधती थी उनका गोल गोल पेट पे नाभि एक गदम सुराही के तरह पेट लगता था, लाल लाल होठ कस हुआ बदन. बहुत ही सेक्सी लगती थी. जब मैं उनके घर गया तो वो कुछ काम कर रही थी और मैं वही चारपाई पे बैठ गया, वो अपना काम खत्म करके वो कमरे में चली गयी और मुझे भी बोली अंदर ही आ जाओ बहार बरामदे पे बहुत धुल उड़ रहा है, मैं भी अंदर चला गया और वही बैठ गया, हम दोनों में बात चीत होने लगी वो बोल रही थी की मैं आपकी शादी अपने ही मायके में करवाउंगी एक बड़ी ही ख़ूबसूरत लड़की है मेरी चचेरी बहन लगती है, मुझे भी आनंद आ रहा था क्यों की किसी भी कुंवारे को शादी के बारे में बात करते अच्छा लगता है, फिर वो काफी देर इधर उधर की बात करने के बाद मैं जाने ही बल था की वो कमरे के दरवाजे पे ही बैठ गयी उनका आँचल सरका हुआ था ब्लाउज टाइट होने की वजह से उनका चूच ऊपर से निकलने की कोशिश कर रहा था, ये सब देख के मेरा लैंड खड़ा हो गया मैं थोड़ा शर्मा भी रहा था क्यों की लग रहा तो अगर वो देख लेगी तो कैसा लगेगा, क्यों की मेरे लैंड का उभर पता चल रहा था.

मैं जैसे ही दरवाजे से निकलने की कोशिश किया मैंने कहा भाभी थोड़ा पैर हटाना वो थोड़ा और भी चौड़ी होकर बैठ गयी फिर मैंने उनको फिर कहा वो मुस्कुरा रही थी पर हटाई नहीं मैं वैसे ही जाने लगा की वो बैठी थी मेरे लैंड काफी टाइट था उस समय जससे ही मैं एक पैर उनसे आगे रखा वो मेरे लैंड को पकड़ ली मैं पीछे कमरे में हो गया और फिर वो हुस्ने लगी, मुझे अच्छा लगा पर मैं बहाना बनाने लगा “मुझे जाना है प्लीज हटो ना वह से” पर जैसे ही जाने की कोशिश करता फिर लैंड पकड़ लेती, मैंने कहा मैं भी कुछ छु दूंगा, वो बोली क्या छुओगे बताओ और फिर उसने लैंड को छु दी, मैंने उनके गाल पे चुटी काटा वो फिर मेरे लैंड को छू ली. फिर मैंने कहा आप ऐसे नहीं मानोगे, तबी वो भाग के अंदर हो गयी मैंने उनके चूची को पकड़ने की कोशिश कर रहा था पर वो इससे बचने की कोशिश कर रही थी मैंने उनको पीछेः से पकड़ के दोनों चूचियों को अपने हाथ में ले लिया उनके कपडे अस्त व्यस्त हो गए थे, वो दब्बाये जा रही थी और हुस रही थी फिर मैंने उनके गर्दन पे किश करना शुरू कर दिया मैंने कहा भाभी क्या मुझे दोगे “वो बोली हां किसी को बोलना नहीं इसके बारे में” मैंने कहा नहीं नहीं ये कोई बाोलने की बात है फिर वो कमरे से बहार आयी और इधर उधर देखि सड़क के तरफ और बहार शायद वो ये देख रही थी कोई बाहर है तो नहीं. बहार लू चल रही थी और हवा की आवाज़ आ रही थी सारे लोग अपने अपने घरो में थे.

फिर वो २ तीन मिनट में आ गयी और मुझे पकड़ के किश करने लगाई आँचल उनका जमीं पे गिर रहा था चुचिया तनी हुई थी मदहोश कर देने बाली पसीने की खुसबू उनके कांख से आ रही थी हल्का हलका पसीना उनके माथे पे था, ये पहली बार था जब किसी ने मेरे जिस्म की और लैंड को छुई थी, मेरा गाला सुख रहा था मैंने पानी पि फिर मैंने उनके टाइट गाल और नरम नरम होठ पे चुम्मा लेना शुरू किया, ऐसा लग रहा था की जन्नत में हु, मेरे लैंड में तो ऐसा लग रहा था कोई विद्युत की धरा प्रवाह हो रहा था, क्या हसीं पल था.
फिर वो वही निचे चटाई पे लेट गयी और अपने ब्लाउज का हुक खोल के पीछे से ब्रा का भी हुक खोल के अलग कर दी, दोनों बड़ी बड़ी चुचिया कैद से आज़ाद हो चूका था वो अपने होठ को अपने दातो का काट रही थी अपनी जीव्ह से अपने होठो पे फ़िर रही थी मैंने उनकी साडी को ऊपर उठा दिया वो उस समय पेंटी नहीं पहनी थी जब मैंने साडी उठाया उनका बूर (चुत) नहीं दिखाई दे रहा था जांघ से सटा हुआ था ऊपर थोड़ा थोड़ा भूरा भूरा बाल दिखा रहा था और गोल गोल जांघे, जब उनकी और देखा तो उनकी आँखे लाल हो चुकी थी चुचिया तन चुकी थी निप्पल टाइट था, मैंने दोनों पैर को अलग किया ताकि बूर की देख सके छोटा से बूर दिखा मैंने अपना लैंड निकला और उनके ऊपर लेट गया पर मेरी पहली चुदाई थी पता नहीं था कैसे डालते है फिर उन्होंने थोड़ा उठने के लिए कहा और अपनी चुडिओं की खनकती हुयी हाथो से मेरे लैंड को पकड़ के अपने बूर के मुहाने पे ले गयी और बोली चोदो.
मैंने जोर से धक्का लगाया और मेरा लौड़ा बूर के अंदर चला गया उनकी चीख निकल गयी ” हाई मैं मर गयी” कितना बड़ा लौड़ा है, आआआआआआआआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह, हेेेेेेेेेेेेेेे भगवान……………… ओईईईईईईईईईईए मेरी माआआआआआआआ, मैंने अपने लैंड को अंदर बाबर करना शुरू किया और चुचिया की निप्पल को अपने दातो से दबाने लगा वो अपना दोनों हाथ ऊपर कर दी उनकी कांख की बाल दिखाई देने लगा और उस समय की सीन की आप कल्पना कर सकते है कैसी लग रही होगी. करीब १० मिनट तो चुदाई करने के बाद मैं झड़ गया क्यों वो वो काफी कामुक हो गयी थी और अपनी गांड को उठा उठा के चुदवा रही थी वो भी निढाल हो गयी और एकदम शांत हो गयी मैं भी उन्ही के ऊपर पड़ा रहा फिर थोड़ी देर बाद उठा दोनों ने एक दूसरे को किश किया फिर आज तक कभी मौका नहीं मिला चोदने का क्यों की उसके बाद उनकी सास आ गयी और मैं भी पढ़ाई करने के लिए शहर चला गया अब तो जब भी मैं गाँव जाता हु एक हलकी सी मुस्कान देती है, ये मेरी सच्ची कहानी है,

Jarur Padhe :: ऐसा मौका बार बार नहीं मिलता



रात के करीब 1:30 बजे मैं उठा और स्थिति का जायजा लिया। चाची गहरी नींद में सो रही थी। चाची बाँयी ओर करवट ले कर सोई थी और एक टाँग को घुटने से मोड़ रखा था।
मैं चाची के पास गया और चाची का लहंगा खिसका कर जाँघों तक कर दिया और दो मिनट रुका, फिर मैंने लहँगे को पीछे से ऊपर किया तो चाची के मोटे चूतड़ नज़र आई और साथ ही उनकी टाँग के मुड़े होने से चूत की दरार भी दिखने लगी।
मैंने हिम्मत जुटा कर चाची के कूल्हे पर हाथ फेरा।
फिर मैंने सोचा कि कहीं जाग गई तो प्लान फ़ेल हो जाएगा तो मैं चाची की बगल में लेट गया। मैंने अपना पायज़ामा नीचे सरकाया और लंड बाहर निकाला जो उत्तेजना में फटने पर आया था।
इस तरह मुझे परेशानी हो रही थी तो मैंने उठ कर पायज़ामा उतार कर मेरी खाट पर पटक दिया। अब मैंने अंडरवीयर के होल से लंड बाहर निकाला और फिर से चाची की बगल में लेट गया और लंड को चाची की चूत की दरार से छूआने लगा।
चाची बोली- राहुल, यह क्या कर रहा है, छोड़ मुझे, वरना तेरी मम्मी को बता दूँगी ये सब।
मैंने कहा- चाची, प्लीज़ एक कर कर लेने दो प्लीज़! और फिर आपको भी तो नया लंड लेने की चाहत होगी ना?
चाची चिल्लाई- नहीं होती मुझे कोई चाहत… अब तू छोड़ मुझे और अपनी खाट पर जा। सुबह देख, मैं तेरी लंका लगाती हूँ।
मैंने कहा- जब सज़ा लेनी ही है तो जुर्म किए बिना क्यूँ?
और मैंने झटके मारने चालू किए।
धीरे धीरे लंड की गरमी से चाची गरम होने लगी तो मैं मौका ताड़ कर चाची के बोबे दबाने लगा और उनकी गर्दन पर चुम्बन करने लगा।
मेरे इस वार के आगे चाची टिक नहीं पाई और पानी छोड़ दिया जो मैं अपने लंड पर महसूस कर सकता था।
चाची के सब्र का बाँध टूटा और उनके मुख से निकला ‘आहह उम्म्म ममम… राहुल चोदो इसस्सस्स…’
सुबह चाची बड़े प्यार से उठा रही थी- उठ भी जा मेरे चोदू, क्या और नहीं करना क्या?
बस चुदाई का नाम लेते ही मैं तो झट से खड़ा हो गया और मेरा शेर भी।

चाची ने मना किया कि अब नहीं, जाना है!
पर मैंने उन्हें मना कर लहंगा ऊँचा करके लंड को चूत में डाल दिया और दीवार के सहारे से टीका कर एक दस मिनट का एक दौर और खेला।
फिर हम दोनों ही शादी वाले घर पर चले गये।

गर्लफ्रेंड की फ्रेंड ने चूत चुदवाई : SEX KAHANI



हैल्लो दोस्तो, वैसे में अपनी गर्लफ्रेंड के साथ बहुत खुश था और वो बहुत हॉट सेक्सी किस्म की लड़की है. फिर हम जब भी साथ होते.. तब कम से कम 4 बार तो चुदाई पक्की रहती और एक लड़के को अपनी गर्लफ्रेंड से और क्या चाहिए. मेरी गर्लफ्रेंड एक स्वभाविक लड़की है.. वो अकेली रहती है और में उसके छुट्टियों के समय भी हमेशा सेक्स करता हूँ. समस्या सिर्फ़ तब आती.. जब वो पीरियड में हो. वैसे हमने उस वक़्त भी कई बार सेक्स किया है.. लेकिन वो दर्द की वजह से मना कर देती है और उस वक़्त सेक्स करना बहुत गम्भीर हो जाता है और वो दर्द की गोली लेकर सोती है.. लेकिन वो फिर भी मेरा लंड चूसकर मुझे एक बार तो चुदाई का मज़ा दिला ही देती है.
दोस्तों अब आज की स्टोरी पर आते है. यह बात उन दिनों की है.. जब मीना पीरियड में थी और में चुदाई के मूड में था.. लेकिन शुरू के दिन होने की वजह से दर्द के साथ साथ दबाव कुछ ज्यादा था और वो मूड में नहीं थी. फिर मैंने उससे कहा कि जानेमन प्लीज एक बार कम से कम लंड चूसकर मज़ा तो दिला दो.. वो लंड चूसने से मना कभी नहीं करती थी और वो मेरे लंड को तो अपना लोलीपोप समझती थी और जब में उससे मेरे लंड को चुसवाता.. तो उसे बहुत मज़ा आता और लंड का सारा का सारा रस पीना उसे बहुत पसंद है.
मीना ने उसके दर्द की दवाई ले ली थी.. जिसका मतलब था कि वो ज़्यादा देर तक मज़े नहीं लेने वाली थी और वो सोना चाहती थी.. लेकिन में बहुत गरम मूड में था. फिर मैंने उसकी बड़ी बड़ी चूचियाँ दबाना और मसलना शुरू कर दिया और में जानता था कि अगर मैंने इसे गरम कर दिया.. तो यह मेरा पानी पिए बिना मानेगी नहीं. फिर मैंने प्यार से उसके निप्पल को काट लिया और उसके गले पर किस देने लगा.
फिर उसके बड़े बड़े बूब्स को चूस चूसकर मैंने उसे गरम कर दिया था. अब उसने सीधा मुझ पर झपट्टा मारा और मेरे अंडरवियर को उतारकर मेरे लंड को अपने हाथ से धीरे धीरे सहलाने लगी. उसके हाथों में अजीब सी नज़ाकत है और जिन लड़को की गर्लफ्रेंड है.. वो बहुत अच्छी तरह जानते है कि चाहे कितना भी मुठ अपने हाथ से मार लो.. जब कोई लड़की लंड हाथ में लेती है.. तो उसमे कुछ अलग ही मज़ा आता है.
फिर में भी मज़ा लेने लगा और थोड़ी देर सहलाने के बाद उसने मेरा लंड अपने मुहं में ले लिया.. वाह क्या मज़ा आ रहा था कि बता नहीं सकता और मेरे लंड को वो लोलीपोप की तरह चूसे जा रही थी. फिर मैंने अपना हाथ उसके बालों में डाला और बालों को कसकर पकड़ लिया और ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर उसके मुहं को चोदने लगा. दोस्तों चूत तो सबने चोदी होगी.. लेकिन जिन खुश किस्मत वालो ने मुहं चोदा है और वो ही जानते है कि उसमे क्या मज़ा है. मीना के सारे बाल बिखर गये थे और में अपने पूरे जोश में धक्के देकर अपने लंड से उसके मुहं को चोदने में लगा हुआ था और इन सब के बीच उसके घर के दरवाजे की घंटी बजी.
फिर मैंने उससे कहा कि रहने दो मेरी जान चूसती रहो.. थोड़ी देर में पानी छोड़ दूँगा.. लेकिन घंटी फिर से बजी और वो उठकर दरवाजे की तरफ चल पड़ी. फिर उसने दरवाजा खोलकर देखा.. तो उसकी फ्रेंड रीना वहाँ पर उदास खड़ी थी.. लेकिन किस्मत से वहाँ पर कोई और नहीं था.. क्योंकि जिस हाल में मीना ने दरवाजा खोला था.. अगर कोई आदमी होता.. तो उसके बिखरे हुए बाल और कपड़े देखकर समझ जाता कि अंदर क्या हो रहा है. फिर रीना को अंदर आने को कहकर मीना ने मेरी तरफ इशारा किया कि अपना लंड अंदर डालो.
दोस्तों में तो लंड को अंदर डालने के मूड में बिल्कुल भी नहीं था.. लेकिन क्या करता और इस कमिनी को भी अभी आना था.. तो फिर रीना ने कहा कि उसका उसके बॉयफ्रेंड के साथ झगड़ा हो गया है और उसने उसको रात को ही अपने घर से बाहर निकाल दिया और अगर इस टाईम पर वो घर गयी.. तो घर वाले बहुत सारे सवाल करेंगे और वो तो घर पर कहकर आई थी कि आज की रात मीना के यहाँ पर ही गुजारेगी.. अचानक वापस घर आने की क्या वजह दे.. तो उसे कुछ नहीं सूझा और वो यहाँ पर आ गयी.
फिर जब मैंने उससे पूछा कि तुम्हारे बीच में झगड़ा क्यों हुआ.. तो उसने पर्सनल बात कहकर बताने से मना कर दिया. फिर मीना ने कहा कि रीना और वो बेडरूम में सोयेंगे और मुझे बाहर दूसरे रूम में सोना पड़ेगा. फिर मैंने जब मीना से लंड चूसने का इशारा किया.. तो उसने साफ मना कर दिया और बोला कि जाओ सो जाओ.
फिर में करूं तो क्या करूं और में बाहर के रूम में आ गया और मीना ने एक और दर्द की गोली लेकर सोने की तैयारी की और उन दोनों को अंदर गये हुए 30 मिनट हो गये होंगे.. लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी. फिर मैंने अपना लैपटॉप चालू किया और हेडसेट लगाकर पॉर्न फिल्म देखने लगा और फिल्म देखकर में अपने लंड को सहलाने लगा. दोस्तों लंड का काम कभी भी आधा नहीं छोड़ा जाता.. यह सभी लोग जानते है और फिर में मुठ मारने का मज़ा ले रहा था कि तभी मेरे खड़े हुए लंड पर किसी ने अपना हाथ रखा और मैंने पीछे मुड़कर देखा.. तो रीना खड़ी थी और मैंने तुरंत अपना लंड अपनी अंडरवियर के अंदर डाल दिया.
मुझे यकीन था कि उसने बहुत कुछ देख लिया था और उसने मुझे सॉरी कहा. फिर मैंने कहा कि नहीं यार मेरी तरफ से सॉरी तुमने मुझे ऐसे देख लिया. तो वो बोली कि नहीं में इसके लिए सॉरी नहीं बोल रही.. में तो थोड़ी देर पहले मैंने जो तुम दोनों को बीच में रोक दिया.. उसके लिए सॉरी बोल रही हूँ.
फिर जब मैंने कहा कि नहीं.. हम कुछ भी नहीं कर रहे थे.. तो उसने कहा कि उसने मीना के बिखरे हुए बाल और उखड़ती हुई सांसो को महसूस कर लिया था. फिर मैंने सिर्फ़ ठीक है कहा और फिर उसने कहा कि क्या तुम जानते हो मेरा और मेरे बॉयफ्रेंड का झगड़ा क्यों हुआ.. तो मैंने पूछा कि क्यों? तो उसने कहा कि वो कमीना मुझसे अपना लंड चुसवाता है.. लेकिन मेरी चूत नहीं चाटता है और वो कहता है कि उसे ये पसंद नहीं. फिर मैंने उसका लंड चूसकर उसका सारा पानी पिया और जब उससे मैंने अपनी चूत चटवानी चाही.. तो उसने मुझसे झगड़ा करके मुझे घर से बाहर निकाल दिया और यह बात सुनकर मेरा मुहं खुला का खुला रह गया.. क्योंकि में उससे ऐसे शब्दों की उम्मीद नहीं कर रहा था.
फिर उसने एक ही झटके में अपनी ड्रेस को पूरा उतार दिया. फिर मैंने कहा कि यह क्या कर रही हो? तो रीना ने कहा कि मीना ने मुझे बताया है कि तुम्हे चूत चूसना बहुत पसंद है और उसने यह भी कहा है कि जब तुम उसकी चूत चाटते हुए जोश में आते हो.. तब तुम उसकी जमकर चुदाई करते हो. फिर मैंने उससे कहा कि रीना तुम बहुत सुंदर हो.. लेकिन मीना और में गर्लफ्रेंड, बॉयफ्रेंड है और वो इस वक्त दूसरे कमरे में है.. सो प्लीज कपड़े पहन लो.
फिर रीना ने कहा कि चुपचाप मेरी प्यास बुझा दो और में तुम्हारी प्यास बुझा दूँगी.. वरना में शोर मचा दूँगी कि तुमने ज़बरदस्ती मुझे नंगा कर दिया और मुझे चोदने की कोशिश कर रहे हो और यह कहते ही उसने तुरंत मेरे लंड को अंडरवियर से बाहर निकाल लिया और मसलने लगी. फिर मैंने उससे साफ मना किया.. तो उसने मीना को एक आवाज़ लगा दी और में डर गया. फिर मैंने उसके मुहं पर हाथ रखा और कहा कि प्लीज ऐसा मत कर और सो जा..
लेकिन वो साली रंडी मानने वाली नहीं थी और फिर उसने कहा कि चोदते हो कि में शोर मचा दूँ और जब मैंने उससे कहा कि मेरे पास कंडोम नहीं है.. क्योंकि मीना पीरियड में है और में उसे चोदने वाला नहीं था. फिर उसने कहा कि ठीक है.. लेकिन एक बार मेरी चूत ही चाट लो. फिर मैंने उसे फिर से समझाने की कोशिश की.. लेकिन उसने फिर एक आवाज़ लगाई और मैंने फिर से उसे रोका और उसकी चूत को चाटने के लिए आगे बड़ा.. जैसे ही में झुका और अपनी जीभ उसकी चूत पर रखी और उसने तुरंत अपने मोबाईल से एक फोटो ले ली. फिर मैंने उससे कहा कि रीना तुमने ऐसा क्यों किया? रीना ने जवाब दिया कि अब तू मुझे चोदेगा.. वरना में यह फोटो मीना को दिखा दूँगी और बोलूँगी कि तुम मेरे साथ ज़बरदस्ती कर रहे थे.
फिर में समझ गया कि अब कोई फायदा नहीं है.. यह साली एक नंबर की रंडी है और क्यों ना चोदकर ही मजा ले लिया जाए. फिर मैंने अपने कपड़े उतार दिए और उसे कहा कि चल आज तुझे रंडी की तरह चोदूंगा.. क्योंकि तू एक रंडी ही है.. उसे ऐसी भाषा में बात करना और भी ज़्यादा पसंद था. फिर उसने कहा कि हाँ चोदो इस रंडी को यह रंडी आज से तुम्हारी गुलाम है. फिर मैंने कहा कि चल रंडी पहले मेरा लंड चूसकर इसे तैयार कर. फिर तुझे चोदूंगा.
फिर मैंने रीना से कहा कि चल आज तुझे जन्नत दिखा देता हूँ और मैंने उसे 69 पोज़िशन में ले लिया और उसकी चूत क्लीन शेव्ड और एकदम गुलाबी थी. फिर मैंने रीना की चूत पर जीभ लगाई और वो रांड साली नागिन की तरह हंसने लगी.. शायद पहली बार किसी ने उसकी चूत चाटी थी और मुझे चूत चाटना बहुत पसंद है. फिर वो सातवें आसमान पर पहुंच गयी थी और मैंने उसकी चूत को करीब दस मिनट तक इतनी ज़ोर ज़ोर से चाटा कि उसका सारा पानी निकल गया और वो एकदम ठंडी पड़ गयी.. जैसे उसके शरीर से जान ही निकल गयी हो.
फिर मैंने कहा कि क्यों रीना रंडी मजा आया. उसने सिर्फ़ सर हिला दिया.. क्योंकि उसमे तो जान ही नहीं बची थी. उसकी चूत का पानी निकला और अब में उस पर चड़ा और उसके बड़े बड़े बूब्स को मसलने लगा.. क्योंकि में इस रंडी को गरम करके चोदना चाहता था. मैंने उसके एक बड़े मुलायम बूब्स को मुहं में लिया और हल्का सा काट लिया और इससे पहले कि वो कोई आवाज़ करती.. तो उससे पहले ही उसका मुहं अपने हाथ से बंद किया और ज़ोर ज़ोर से उसके बूब्स को चूसने लगा.. तो वो साली रांड दर्द से तड़पने लगी. फिर मैंने उसके मुहं से हाथ हटाया और कहा कि चल रंडी अब तू चुदेगी.. लेकिन पहले अपने मालिक का लंड चूस और फिर उसने मेरा लंड अपने मुहं में लिया और चूस चूसकर बहुत गीला कर दिया और अब मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था.
फिर मैंने उसकी तड़पती हुई चूत में अपना लंड डाल ही दिया.. लेकिन दोस्तों उसकी चूत बहुत ही टाईट थी और लगता है कि उसका बॉयफ्रेंड हिजड़ा था.. क्योंकि इतने टाईम साथ रहने के बावजूद इतनी टाईट चूत थी. इसका मतलब है कि उसका बहुत ही छोटा लंड था.
फिर मैंने रीना को बहुत ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर चोदा और बहुत सारे किस भी दिए और जब में झड़ने वाला था.. तो फिर मैंने कहा कि रीना मेरा वीर्य निकलने वाला है और में अब क्या करूं.. तो उस रंडी ने मुझसे कहा कि तुम डरो मत और सारा वीर्य मेरी प्यासी चूत के अंदर ही डाल दो.
फिर मैंने कहा कि नहीं में अभी कोई बच्चा नहीं चाहता और उस रंडी ने अपने दोनों पैरों को सांप की तरह मेरी कमर से जकड़ लिए और मुझे लंड को बाहर नहीं निकालने दिया और मेरा सारा का सारा वीर्य अपनी चूत के अंदर ही ले लिया और जब हम दोनों की हवस कम हुई.. तब उसने कहा कि वो कल सुबह गर्भनिरोधक गोली ले लेगी. दोस्तों फिर हमने उस रात में तीन बार और चुदाई की और हमारी किस्मत से मीना को उस गोली ने उसे नींद से उठने नहीं दिया और हम बिना चिंता के अपनी चुदाई में लगे रहे.

अन्तर्वासना से मिली प्यारी चूत Kamasutra story



Antarvasna se Mili Pyari Choot
अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा प्रणाम.. मैं अक्सर अन्तर्वासना में कहानियाँ पढ़ता रहता हूँ और जब कभी भी कोई अच्छी और नई कहानी पढ़ता हूँ तो मन करता है.. काश कोई मुझे भी मिल जाती.. जिसके साथ मैं भी अपनी अन्तर्वासना की आग को बुझा सकता।
फिर उसने मुझे अपने शादी से पहले के अफेयर के बारे में बताया कि शादी से पहले उसका एक ब्वॉय-फ्रेंड था जिसके साथ उसने कई बार सम्भोग किया था और उसके साथ उसे मजा भी आता था.. पर जब से शादी हुई है तबसे उसको चुदाई में कोई आनन्द नहीं मिल पाया है.. शादी की पहली रात को ही उसको पता चल गया था कि उसके पति नपुंसक हैं और तब से वो ऐसी ही कहानियाँ और ब्लू-फिल्म देख कर काम चलाती है।